दिग्विजय महाविद्यालय के छात्राएं आत्म सुरक्षा में बनी सक्षम – आत्मरक्षा हेतु कराटे प्रशिक्षण शिविर

शासकीय दिग्विजय स्वशासी स्नातकोत्तर महाविद्यालय, राजनांदगांव में छात्राओं में आत्मरक्षा के प्रति जागरूकता पैदा करने हेतु प्राचार्य डॉ के. एल. टाण्डेकर के मार्गदर्शन एवं महिला प्रकोष्ठ की संयोजक डॉ. मीना प्रसाद के नेतृत्व में पांच दिवसीय प्रशिक्षण शिविर का आयोजन दिनांक 11/01/2023 से 16/01/2023 तक किया गया प्रशिक्षण कार्यक्रम में 132 प्रतिभागियों ने भाग लिया। इस प्रशिक्षण प्रोग्राम में प्रशिक्षक के रूप में श्री मनोज ठाकुर, ब्लैक बेल्ट, हेड कांस्टेबल, पुलिस लाईन, राजनांदगांव उपस्थित थे। कार्यक्रम के प्रथम दिवस प्रतिभागियों को आत्मरक्षा हेतु 5 स्टेप्स सिखाए, जिनमें पंच, पुश, एल्बो्, राउंड एवं बैंक एल्बो्, तथा टू फिंगर शामिल थे। कार्यक्रम के दूसरे दिन प्रतिभागियों को बैक होल्ड, रिवर्स पंच, फ्रंट किक, बैक किक और रिवर्स पंच सिखाया गया प्रशिक्षण के तीसरे दिन प्रतिभागियों को नी पंच, फ्रंट किक, बेक किक की जानकारी दी गई । कार्यक्रम के चैथे दिन प्रतिभागियों को अचानक हमला होने पर बचाव की तकनीक सिखाई गई एवं प्रशिक्षण के अंतिम दिवस पर प्रतिभागियों को एल्बो किक, अपर पंच, लोवर पंच, राउंड किक के बारे में सिखाया गया । दिनांक 16/01/2023 को महिला प्रकोष्ठ द्वारा आयोजित 5 दिवसीय कराटे प्रशिक्षण कार्यक्रम के समापन सत्र में मुख्य अतिथि के रूप में श्री प्रफुल्ल ठाकुर, पुलिस अधीक्षक, राजनांदगांव, विशिष्ट अतिथि के रुप में श्रीमती पद्मश्री तवर, अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक, राजनांदगांव एवं श्रीमती नेहा वर्मा, उपपुलिस अधीक्षक, राजनांदगांव उपस्थित हुए।
कार्यक्रम के उद्देश्य पर महिला प्रकोष्ठ की संयोजक डाॅ. मीना प्रसाद ने प्रकाश डाला। मुख्य अतिथि श्री प्रफुल्ल ठाकुर, पुलिस अधीक्षक ने छात्राओं को महिला सुरक्षा, साइबर अपराध, यातायात एवं सड़क सुरक्षा नियमों अभिव्यक्ति एप्प, हमरबेटी,हमर मान योजना तथा प्रतियोगी परीक्षाओं की तैयारी के विषय में विस्तृत जानकारी प्रदान की। प्रतिभागी छात्राओं ने कार्यक्रम में आत्म रक्षा के विभिन्न कलाओं का प्रदर्शन किया। अतिथियों के द्वारा छात्राओं को प्रमाण पत्र प्रदान किया गया। कार्यक्रम का संचालन डॉ अनीता साहा ने तथा धयन्यवाद ज्ञापन डाॅ. आराधना गोस्वामी ने किया।
कार्यक्रम में डॉ. अंजली मोहन कोडोपी, प्रो. मंजरी सिंह, प्रो. कविता साकुरे, डाॅ. किरणलता दामले, डाॅ. अनिता शंकर, डाॅ. नीलू श्रीवास्तव, प्रो. करुणा रावते, डॉ प्रियंका सिंह, प्रो. रागिनी पराते तथा सभी प्रतिभागी छात्राएं कार्यक्रम में उपस्थित रहे।

कंप्यूटर साइंस एवं एप्लीकेशन विभाग में पांच दिवशीय स्किल डेवलपमेंट प्रोग्राम का आयोजन

कंप्यूटर साइंस एवं एप्लीकेशन विभाग में पांच दिवशीय स्किल डेवलपमेंट प्रोग्राम का आयोजन 16 से 20 जनवरी 2023 तक किया जा रहा है । जिसमे 16 तथा 17 जनवरी को डाटा साइंस , 18 जनवरी को साइबर सिक्योरिटी तथा 19 एवं 20 जनवरी को फ्रंटइन्ड डेवलपमेंट पर वर्कशाप का आयोजन किया जायेगा । पांच दिवशीय स्किल डेवलपमेंट प्रोग्राम के पहले दिन आज दिनांक 16 जनवरी 2023 को कार्यक्रम के प्रारम्भ में बिटकोड प्राइवेट लिमिटेड , भिलाई के सीईओ श्री बी. सुरेश राव ने विद्यार्थियों को कोर्स की पढाई के साथ कम्प्यूटर स्किल क्यों जरूरी होता है को समझाया । मुख्य वक्ता एन. प्रशांत , डाटा साइंस ट्रैनर , बिटकोडे प्राइवेट लिमिटेड , भिलाई ने डाटा साइंस विषय पर अपना व्याख्यान दिया । आज के सेशन में डाटा साइंस का इंट्रोडक्शन तथा डाटा साइंस के लाइफ साइकिल के बारे में एवं डाटा साइंस के उदाहरण , जॉब अपॉर्चुनिटी पर चर्चा की गई जिसमें कुछ आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस और मशीन लर्निंग के वेबसाइट की जानकारी दी गई जैसे की Google colab , ChatGPT एवं DALL E Websites के बारे में बताया गया। तथा इसमें उदाहरण के साथ प्रैक्टिकल भी कराया गया । इस कार्यक्रम में बीसीए ( द्वितीय ,तृतीय) बीएससी कंप्यूटर साइंस (द्वितीय, तृतीय), एमएससी द्वित्तीय तथा एमएससी चतुर्थ सेमेस्टर के विद्यार्थी , विभागाध्यक्ष श्री राजू खूंटे कंप्यूटर विज्ञान,विभागाध्यक्ष श्रीमती हेमपुष्पा कंप्यूटर एप्लीकेशन एवम समस्त अतिथि व्याख्याता उपस्थित थे।

शोध में नैतिक आचार संहिता का समावेश आवश्यक – डाॅ. पुखराज बाफना

शासकीय दिग्विजय स्वशासी स्नातकोत्तर महाविद्यालय, राजनांदगांव में गठित इथिकल कमेटी की बैठक का आयोजन किया गया जिसमें महाविद्यालय के प्राध्यापकों के साथ राजनांदगांव शहर के गणमान्य नागरिक भी उपस्थित हुए। सर्वप्रथम महाविद्यालय के प्राचार्य डाॅ. के.एल. टांडेकर ने स्वागत उद्बोधन में कहा कि महाविद्यालयीन शिक्षा का उद्देश्य एक योग्य विद्यार्थी तैयार करना है जो न केवल अपने विषय में विशेषज्ञ हो वरन व्यवहार में भी उत्कृष्ट हो उसके व्यक्तित्व में नैनिक मूल्यों का समावेश हो। इसी उद्देश्य हेतु एथिकल कमेटी बनाई गई है।
एथिकल कमेटी की संयोजक डाॅ. अनिता महिश्वर ने बतलाया कि महाविद्यालय में अलग-अलग विषयों हेतु शोधकार्य होते है। एथिकल कमेटी का कार्य उन शोध परियोजनाओं की प्रक्रिया पर केन्द्रि कर यह पता लगाना है कि इस शोध कार्य का मानवीय पर्यावरण पशुओं और प्राकृतिक घटकों पर कोई दुष्प्रभाव तो नहीं पड़ता है। इसके अलावा उन्होंने बतलाया कि एथिकल कमेटी समय≤ पर मूल्य संबंधी चिंतन पर व्याख्यान, कार्यक्रम आदि आयोजित कर छात्रों के व्यक्तित्व विकास सकल बनाएगी।
इस अवसर पर राजनांदगांव के वरिष्ठ चिकित्सक, समाजसेवी, पद्मश्री डाॅ. पुखराज बाफना ने बताया कि शोध एक अलग विद्या है उसे नैतिक आचार संहिता से जोड़कर महाविद्यालय ने उत्कृष्ठ कार्य किया है। डाॅ. पुखराज बाफना ने सभी शोधार्थियों का उत्साहवर्धन किया और उनसे कहा कि शोध से होने वाले लाभ ही नहींे हानियों पर भी चिंतन करना अनिवार्य है। तत्पश्चात् महाविद्यालय के स्वशासी प्रकोष्ठ द्वारा प्राप्त अनुदान पर किए जा रहे महाविद्यालय के 08 प्राध्यापकों ने अपने लघु शोध परियोजना की प्रस्तुती दी। डाॅ. प्रमोद कुमार महीश एवं डाॅ. संजय ठिसके ने बायोटेक्नोलाजी पर, डाॅ. डाकेश्वर कुमार वर्मा एवं श्रीमती रीमा साहू ने रसायनशास्त्र पर, डाॅ. केशवराम आडिल ने वनस्पतिशास्त्र पर, डाॅ. शबनम खान एवं श्रीमती कविता साकुरे ने गणित पर ,कु. रागिनी पराते ने वाणिज्य विषय पर ‘‘राजनांदगांव जिले में पर्यटन उद्योग का विकास चुनौतियां एवं संभावनाएं’’ पर तथा डाॅ. शैलेन्द्र सिंह एवं श्री हीरेन्द्र बहादुर ठाकुर, ने इतिहास विषय ‘‘ राजनांदगांव जिले के ज्ञात एवं अज्ञात आजादी के दीवानों का योगदान’’ विषय पर अपनी प्रस्तुती दी। सभी शोधार्थियों से प्रश्नोत्तर कर अतिथियों ने उन्हे शोध संबंधी सुझाव दिए। प्रस्तुतीकरण में नये अविष्कारों एवं खोज के लिए अतिथियों ने अपने विचार व्यक्त किये और मार्गदर्शन दिया।
इस कमेटी के सदस्य श्री एच.सी. जैन ने कार्यक्रम का संचालन किया तथा डाॅ. डी.पी. कुर्रे ने धन्यवाद ज्ञापन दिया। इस अवसर पर डाॅ. अजय कोसाम, डाॅ. सुमन सिंह बघेल, डाॅ. बी.एल. कुमरे, श्री लक्ष्मीनारायण देवांगन, श्री शरद श्रीवास्तव, डाॅ. शबनम खान एवं डाॅ. एस. जेनामणी उपस्थित थे।

प्रोफेसर जय नारायण वर्मा का कैरियर काउंसलिंग पर व्याखान

शासकीय दिग्विजय महाविद्यालय के वनस्पति शास्त्र विभाग में दिनांक 09 जनवरी 2023 को महाविद्यालय के प्राचार्य डॉ. के. एल. टांडेकर के मार्गदर्शन में अतिथि व्याख्यान का आयोजन हुआ। कार्यक्रम का शुभारंभ विभागाध्यक्ष डॉ. अनीता महिश्वर के स्वागत उद्बोधन से हुआ तथा शासकीय दूधाधारी बजरंग महिला पोस्ट ग्रेजुएट महाविद्यालय, रायपुर से आमंत्रित विषय विशेषज्ञ प्रो. जे. एन. वर्मा का पुष्पगुच्छ से डॉ. के.एल. टांडेकर द्वारा स्वागत किया गया। विषय विशेषज्ञ प्रो. वर्मा ने अपना व्याख्यान रोजगार मार्गदर्शनध् कैरियर काउंसिलिंग पर दिया। उन्होंने विद्यार्थियों को स्नातकोत्तर के पश्चात कैसे सही दिशा में अपने रोजगार का चयन करे इसके बारे में विस्तार से बताया। साथ ही अपने विषय में किस किस तरह के रोजगार मिल सकता है एवं उसकी तैयारी कैसे करें, स्टडी मटेरियल कैसे प्राप्त करे इन सबके बारे में बहुत ही बारिकी से बताया। कार्यक्रम का संचालन डॉ. त्रिलोक कुमार द्वारा किया गया। इस अवसर पर विभाग के डॉ. सोनल मिश्रा, डॉ. केशव आडिल, डॉ. किरण जैन, श्री मोहित साहू सहित एम.एस.सी. वनस्पति शास्त्र प्रथम एवं तृतीय सेमेस्टर के समस्त विद्यार्थीगण उपस्थित रहे।

आत्मरक्षा हेतु कराटे प्रशिक्षण शिविर

शासकीय दिग्विजय स्वशासी स्नातकोत्तर महाविद्यालय, राजनांदगांव में छात्राओं में आत्मरक्षा के प्रति जागरूकता पैदा करने हेतु प्राचार्य डॉ के. एल. टाण्डेकर के मार्गदर्शन एवं महिला प्रकोष्ठ की संयोजक डॉ. मीना प्रसाद के नेतृत्व में पांच दिवसीय प्रशिक्षण शिविर का आयोजन दिनांक 11/01/2023 से 16/01/2023 तक किया जा रहा है। जिसका शुभारंभ आज दिनांक 11.01.2023 को सरस्वती माता एवं छत्तीसगढ़ महतारी के समक्ष दीप प्रज्वलित कर किया गया। कार्यक्रम की अध्यक्षता प्रभारी प्राचार्य डॉ अंजना ठाकुर ने की । प्रशिक्षण कार्यक्रम में 105 प्रतिभागियों ने भाग लिया। इस प्रशिक्षण प्रोग्राम में प्रशिक्षक के रूप में श्री मनोज ठाकुर, ब्लैक बेल्ट, हेड कांस्टेबल, पुलिस लाइन, राजनांदगांव उपस्थित थे। उन्होंने प्रतिभागियों को आत्मरक्षा हेतु 5 स्टेप्स सिखाए, जिनमें पंच, पुश, एल्बो्, राउंड एवं बैंक एल्बो्, तथा टू फिंगर शामिल थे। कार्यक्रम का संचालन डॉ आराधना गोस्वामी ने किया। महिला प्रकोष्ठ के समस्त सदस्य डॉ अंजली मोहन कोडोपी, डॉ अनिता साहा, डॉ प्रियंका सिंह कार्यक्रम में उपस्थित थे।

समाज कार्य विभाग के विद्यार्थियों द्वारा नशा उन्मूलन कार्यक्रम का आयोजन

आज दिनांक 7 जनवरी 2023 को शासकीय दिग्विजय महाविद्यालय राजनांदगांव के समाज कार्य विभाग के विद्यार्थियों द्वारा नशा उन्मूलन कार्यक्रम का आयोजन मठपारा राजनांदगांव में किया गया .उक्त कार्यक्रम प्राचार्य डॉ के एल टांडेकर के निर्देशन एवं समाज कार्य विभागाध्यक्ष श्रीमती ललिता साहू के मार्गदर्शन में किया गया. कार्यक्रम में महाविद्यालय के विद्यार्थियों द्वारा नशा उन्मूलन कार्यक्रम के अंतर्गत नुक्कड़ नाटक कार्यक्रम का आयोजन किया गया .कार्यक्रम के आरंभ में जनभागीदारी समिति के अध्यक्ष श्री रईस अहमद शकील ने अपने उद्बोधन में कहा कि नशा न केवल परिवार को अपितु पूरे समाज को नष्ट कर रहा है, युवा पीढ़ी नशे की लत में अपना भविष्य बर्बाद कर रही है .अतः ऐसे में आवश्यक है कि हम संपूर्ण समाज को नशा मुक्त करने का प्रयास करें। समाज कार्य विभागाध्यक्ष ने अपने उद्बोधन में कहा कि नशा न केवल परिवार अपितु पूरे समाज के लिए अभिशाप है. नुक्कड़ नाटक के माध्यम से विद्यार्थियों ने बताया कि नशा से परिवार ही नहीं बल्कि पूरा समाज नशे की चपेट में आ गए .हमें एक नशा मुक्त समाज का निर्माण करना है. कार्यक्रम के अंत में समाज कार्य के अतिथि प्राध्यापक सुश्री तारिणी साहू द्वारा आभार व्यक्त किया गया. उक्त कार्यक्रम जिला स्तरीय मुस्लिम समाज के तत्वाधान में आयोजित किया गया।

आरोग्य भारती द्वारा स्वास्थ्य एवं पर्यावरण सुरक्षा पर व्याख्यान

 

शासकीय दिग्विजय महाविद्यालय राजनांदगांव में संस्था के प्राचार्य डॉ. के. एल. टांडेकर के मार्गदर्शन में एवं यूथ रेडक्रास के संयोजक प्रो. संजय देवांगन के नेतृत्व में आरोग्य भारती संगठन के साथ मिलकर स्वास्थ्य एवं पर्यावरण सुरक्षा पर व्याख्यान का आयोजन किया गया। व्याख्यान के लिए प्रमुख वक्ता के रूप में डॉ. प्रवीण प्रभाकर, राष्ट्रीय पर्यावरण प्रमुख एवं श्री अशोक कुमार वार्ष्णेय, राष्ट्रीय संगठन सचिव आमंत्रित थे। वार्ष्णेय जी ने विद्यार्थियों को पर्यावरण एवं उसकी सुरक्षा के संबंध में विस्तृत जानकारी प्रदान किए, उन्होंने पर्यावरण का अर्थ, विशेषताएं, जैव विविधता, पर्यावरण पर पड़ने वाले दुष्प्रभाव एवं उसके परिणामों को पीपीटी के माध्यम से प्रस्तुत किए एवं मानव को उसकी सुरक्षा कैसे करनी चाहिए इस संबंध में भी जानकारी प्रदान किए। श्री प्रवीण प्रभाकर जी ने विद्यार्थियों को पर्यावरण की देखरेख एवं अपने स्वास्थ्य की रक्षा करने हेतु उदाहरणों के माध्यम से विभिन्न जानकारियां प्रदान किए। संस्था के प्राचार्य डॉक्टर के. एल. टांडेकर ने विद्यार्थियों को संबोधित करते हुए कहा कि ज्वलंतशील विषय पर्यावरण एवं स्वास्थ्य पूरी तरह से हम से जुड़ी हुई है अतः हमें पर्यावरण को स्वच्छ रखते हुए अपने स्वास्थ्य को भी स्वस्थ रखना चाहिए। कार्यक्रम में मंच संचालन प्रो. संजय देवांगन, सहायक प्राध्यापक वाणिज्य ने किया। इस कार्यक्रम में प्रो. रागिनी पराते, प्रो. वंदना मिश्रा, प्रो. लिकेश्वर सिन्हा, प्रो. मुक्ति वर्मा एवं आरोग्य भारती के विभिन्न सदस्यों सहित रेड क्रॉस के कुल 120 विद्यार्थियों की उपस्थिति रही।

सकारात्मक विचार एवं जीवन शैली में बदलाव व्यक्तित्व विकास की प्रथम सीढ़ी-डॉ. अविनाश कुमार शर्मा

शासकीय दिग्विजय महाविद्यालय के वनस्पति शास्त्र विभाग में दिनांक 05 जनवरी 2023 को एम.ओ.यू. गतिविधि अंतर्गत महाविद्यालय के प्राचार्य डॉ. के. एल. टांडेकर के मार्गदर्शन एवं निर्देशन में अतिथि व्याख्यान का आयोजन हुआ। कार्यक्रम का प्रारंभ विभागाध्यक्ष डॉ. अनीता महिश्वर स्वागत उद्बोधन से हुआ तथा शासकीय काव्योपाध्याय हीरालाल महाविद्यालय अभनपुर से आमंत्रित विषय विशेषज्ञ डॉ. अविनाश कुमार शर्मा का पुष्पगुच्छ से डॉ. के.एल. टांडेकर द्वारा स्वागत किया गया। विषय विशेषज्ञ डॉ अविनाश कुमार शर्मा ने अपना व्याख्यान व्यक्तित्व विकास एवं स्ट्रेस मैनेजमेंट विषय पर दिया। उन्होंने कहा कि सर्वांगीण विकास हेतु व्यक्ति में कौन-कौन से गुण होने चाहिए तथा आज के परिवेश में तनाव से बचने हेतु किस प्रकार से अपने दैनिक जीवन शैली में तथा स्वयं में सकारात्मक बदलाव लाकर तनाव से बचा जा सकता है। कार्यक्रम का संचालन डॉ. त्रिलोक कुमार द्वारा किया गया। इस अवसर पर विभाग के डॉ. सोनल मिश्रा, डॉ. केशव आडिल, डॉ. किरण जैन, श्री मोहित साहू सहित एम.एस.सी. वनस्पति शास्त्र प्रथम एवं तृतीय सेमेस्टर के समस्त विद्यार्थीगण उपस्थित रहे एवं व्याख्यान का लाभ लिया।

भू-गर्भ विज्ञान में एक दिवसीय कार्यशाला का आयोजन

शासकीय दिग्विजय स्वशासी स्नातकोŸार महाविद्यालय राजनाँदगाँव (छ.ग.) में भू-विज्ञान विभाग द्वारा बी.एस-सी. – प्ए प्प् एवं प्प्प् के विद्यार्थियों के लिए भारतीय भूवैज्ञानिक सर्वेक्षण रायपुर (छ.ग.) के सहयोग से एक दिवसीय कार्यशाला का आयोजन दिनाॅंक 05 जनवरी 2023 दिन – गुरुवार को बक्शी हाॅल में किया गया। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि वरिष्ट जियोलाॅजिस्ट श्री आशीष वाधवानी एवं श्री रमेश बाबू जालेम अपनी टीम एवं सर्वेक्षण में प्रयुक्त उपकरणों तथा चट्टानो के साथ उपस्थित हुए। कार्यक्रम की अध्यक्षता महाविद्यालय के प्राचार्य डाॅ. के. एल. टाण्डेकर ने किया। कार्यक्रम में भूगोल विभाग के विभागाध्यक्ष डाॅ. के. एन. प्रसाद, डाॅ. एस. जेनामणि, डाॅ. प्रतिमा विश्वकर्मा, आशीष मांझी एवं भू-विज्ञान विभाग के सृष्टि शर्मा उपस्थित रहे। प्राचार्य डाॅ. के. एल. टाण्डेकर, डाॅ. के. एन. प्रसाद एवं सृष्टि शर्मा ने अपने उद्बोधन में विद्यार्थियों से इस कार्यशाला से लाभ उठाकर कैरियर निर्माण में आगे बढ़ने की अपील की।
श्री रमेश बाबू जालेम ने छŸाीसगढ़ की भू-विज्ञान संरचना एवं उपलब्ध खनिज संसाधनों के बीच संबंध को उपर्युक्त मानचित्रों के माध्यम से एक प्रभावी प्रस्तुति दी। इन्होंने पाथ फाइंडर मिनरल की सहायता से खनिजो के मुख्य भण्डार तक पहुॅचने का वर्णन बहुत सरल तरीके से किया इन्होंने सोनाखान, गरियाबंद जैसे क्षेत्रों में सोने एवं हीरे की खोज में पाथ फाइंडर मिनरल की भूमिका को बहुत ही रोचक ढं़ग से प्रस्तुत किया।
श्री आशीष वाधवानी ने भारत के सर्वेक्षण विभाग द्वारा निर्मित धरातल पत्रक की मदद से भू-विज्ञान मानचित्र तैयार करने की विधि का उल्लेख करते हुए उच्चावच एवं खनिजों के वितरण पर प्रकाश डाला। इस तरह उन्होंने स्पष्ट रुप से बताया कि मैदानी भाग में सामान्यतः खनिजों की अनुपस्थिति रहती है, जबकि पठारी एवं पहाड़ी भागों में खनिजों की विविधता एवं प्रचुरता दोनों अधिक होती है। फिर भी खास स्थान पर ही खनिज विशेष का भण्डार होने के पीछे भू-विज्ञान संरचना, क्रियाकलाप तथा भौतिक दशाओं की प्रत्यक्ष भूमिका होती है।
कार्यशाला के अंत में प्रश्न-उŸार का एक लम्बा सत्र चला। सभी विद्यार्थियों ने अपनी-अपनी जिज्ञासाओं से संबंधित प्रश्न करने में उत्साह दिखाया। विद्यार्थियों की ओर से मेकल, प्रगति, दीपा, प्रिया ने कार्यशाला के सार्थकता को महत्वपूर्ण बताते हुए भविष्य में ऐसे कार्यक्रम ज्यादा से ज्यादा करने की गुजारिश की।

नेवल एनसीसी कैडेट्स रूपेश जायसवाल का आरडीसी में चयन

रुपेश जायसवाल का आरडीसी में हुआ चयन
26 जनवरी को देंगे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को सलामी

राजनांदगांवः दिग्विजय महाविद्यालय राजनांदगांव नेवल एनसीसी कैडेट्स रूपेश जायसवाल का चयन डीजी एनसीसी दिल्ली में चयन हुआ है इस वर्ष 26 जनवरी 2023 को दिल्ली लालकिला में होने परेड में शामिल होंगे और प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी जी को गार्ड ऑफ ऑनर सलामी देगा। मिली जानकारी के अनुसार 1 नवंबर को आरडीसी में चयन हुआ और अपनी परेड की तैयारी में लग गए और लागतार मेहनत करते हुए 30 दिसंबर को गार्ड ऑफ ऑनर के लिए चयन हुआ। रूपेश अपने स्कूल जीवन से ही एनसीसी कैडेट्स के रूप में पूरी निष्ठा और लगन के साथ लगे रहें और यूनिट द्वारा होने वाले हर कैम्प में शामिल होकर लागतार आगे बढ़ते गए यही कारण हैं अब वह दिल्ली राजपथ पर इस वर्ष परेड में शामिल होकर राजनांदगांव एवं छत्तीसगढ़ का मान बढ़ाएगा इस अवसर पर महाविद्यालय के प्राचार्य डाॅ.के.एल. टांडेकर ने छात्र को बधाई देते हुए निरंतर उतरोत्तर प्रगति हेतु शुभकामनाएं प्रेषित की साथ ही महाविद्यालय के एन.सी.सी. नेवल अधिकारी श्री विकास कांडे एवं अन्य प्राध्यापकों द्वारा शुभकामनाएं दी। इस उपलब्धि के लिए रूपेश ने अपने माता पिता और गुरुजनों का निरंतर सहयोग का श्रेय दिया।