’’ग्राम कुम्हालोरी में अंधविष्वास तथा योग पर कार्यक्रम‘‘

शासकीय दिग्विजय महाविद्यालय के दर्षन एवं योग विभाग द्वारा ग्राम कुम्हालोरी पोस्ट सुरगी में अंधविष्वास तथा योग पर एक सामाजिक जागरूकता काकार्यक्रम आयोजित किया गया।सर्वप्रथम दर्षन एवं योग के विद्यार्थियों नंे पूरे ग्राम का भ्रमण कर अंधविष्वास क्या है तथा योग क्या है विषय पर पामप्लेट का वितरण किया।तत्पष्चात् सभी ग्रामवासियों को प्रो. नीरा सिंह ने योग का महत्व बतलाते हुए अनेक सरल आसन करवाये तथा बतलाया कि अपने जीवन में यदि हम 10 मिनट योग के लिए निकाल पाये तो अनेक असाध्य बिमारियों से बच सकते है। योग के विद्यार्थियों ने ग्रामवासियों के समक्ष अनेक ऐसे कठिन आसनों का प्रदर्षन किया जो विभिन्न बिमारियों के निदान हेतु उपयोगी थे। इस अवसर पर विभागाध्यक्ष डाॅ. एच. एस. अलरेजा ने कहा कि भारत का  विकास तभी संभव है जब भारत के गांवों का विकास हो विकास का अर्थ बड़े-बड़े मालगाड़ियां बंगले नही है।विकासकाअर्थहै स्वस्थ्य शरीर तथा उस में स्थित स्वस्थ्य वैज्ञानिक बुद्धि गांव ही नही शहर के पढ़े लिखे लोग भी यह अंधविष्वास मानते हैं कि किसी अंगूठी या धागे के बांधने से हमारी जिंदगी बदल जायेगी अब हमे टोने टोट के सिंदुर निबू, मिर्ची, ताबिजअंगूठीजैसेअंधविष्वासों से उपर उठना है।अंधविष्वास से मुक्त मस्तिस्क तथा योगयुक्त जीवन ही आधुनिक मनुष्य की पहचानहै।
इस कार्यक्रम का कुषल संचालन ग्राम के युवा श्रीविजय कुमार ने किया इस अवसर पर सरपंच सामतराम पटेल, उपसरपंच राजंेषसाहू, पंच राजेष्वर कोटारे शाला अध्यक्ष ओंकारदास साहेब षिक्षक आर. आर. साहू तथा अनेक ग्राम वासी उपस्थित थे।कार्यक्रम में ग्राम वासी डिपेन्द्र कुमार वरूण कुमार जीतेष साहू, हेमंत साहू संतोष गोसांई, पूनम देविका अंगेष्वरी साहू ने सहयोग प्रदान किया