शासकीय दिग्विजय महाविद्यालय में स्वास्थ्य जागरूकता पर कार्यक्रम आयोजित

शासकीय दिग्विजय महाविद्यालय राजनांदगांव में प्राचार्य डाॅ. बी.एन.मेश्राम के मार्गदर्शन में महाविद्यालय के महिला प्रकोष्ठ एवं शासकीय चिकित्सा महाविद्यालय, राजनांदगांव के संयुक्त तत्वाधान में महिलाओं में स्वास्थ्य जागरूकता पर एक दिवसीय कार्यशाला आयोजित की गई। इस कार्यशाला में शासकीय चिकित्सा महाविद्यालय राजनांदगांव से स्त्री एवं प्रसूति रोग विभाग की विभागाध्यक्ष डाॅ. मीना आर्मो तथा उनके सहयोगी डाॅ. अमित तथा डाॅ. एश्वर्या उपस्थित रहे। प्राचार्य डाॅ. श्रीमती बी.एन.मेश्राम ने अपने स्वागत भाषण में सभी अतिथियों का अभिनंदन करते हुये कहा कि महिलाओं में स्वास्थ्य जागरूकता अत्यंत आवश्यक है, कई भीषण रोग जैसे कैंसर इत्यादि के विषय में जागरूकता का अभाव होने पर घातक स्थितियां निर्मित होती है। महिलाओं की स्वयं एवं परिवार के स्वास्थ्य एवं स्वच्छता के विषय में सजग रहना चाहिये। डाॅ. मीना आर्मो ने पावर पाइंट प्रेंजेंटेशन के माध्यम से माहवारी, महिलाओं में होने वाले विशेष केंसर इत्यादि के विषय में विद्यार्थियों को विस्तृत एवं उपयोगी जानकारी प्रदान की एवं विद्यार्थियों के प्रश्नों का समाधान किया। कार्यक्रम का संचालन डाॅ. दिव्या देशपाण्डे तथा आभार प्रदर्शन डाॅ. प्रीतिबाला टांक द्वारा किया गया। इस अवसर पर महिला प्रकोष्ठ की सदस्य डाॅ. कविता साकुरे तथा आशीष मंडले ने विशेष सहयोग प्रदान किया।

सिंधु सभ्यता भारतीय संस्कृति की गौरवशाली अध्याय

सिंधु सभ्यता भारतीय संस्कृति की गौरवशाली अध्याय – डाॅ. शैलेन्द्र सिंह
शासकीय शिवनाथ विज्ञान महाविद्यालय के इतिहास विभाग में प्राचार्य डाॅ. गन्धेश्वरी सिंह के मार्गदर्शन में व्याख्यानमाला का आयोजन किया गया। मुख्य वक्ता दिग्विजय महाविद्यालय के इतिहास विभाग के विभागाध्यक्ष डाॅ. शैलेन्द्र सिंह थे। प्रारंभ में डाॅ. निर्मला उमरे द्वारा व्याख्यानमाला के आयोजन पर प्रकाश डाला गया। डाॅ. शैलेन्द्र सिंह ने कहा कि सिंधु सभ्यता भारतीय संस्कृति की प्रारम्भिक बिन्दू है। 1921 में दयाराम साहनी के खोज में यह सिद्ध किया की हमारी सभ्यता एवं संस्कृति हजार वर्ष से अधिक प्राचीन एवं गौरवशाली रही। सिन्धु घाटी के कालक्रम का निर्धारण एक जटिल कार्य था। इसकी लिपि न पढ़ी जाने की वजह से और जटिल हो गया, किंतु रेडियो कार्बन विधि के आधार पर इसे निर्धारित किया गया। इस सभ्यता के प्रमुख नगर हडप्पा, मोहन जोदडो, चन्हूहुदडो, लोथल कालीबंगा थे। इतिहास जानने के लिए नगर, मकान, पत्थर, प्रशाधन सामग्री, कंकाल, बर्तन मुद्राव अािद मूल सामग्री पर भी निर्भर होना पड़ता है। सभ्यता के प्रमुख विशेषताओं में मोहनजोदडो में मिला सार्वजनिक स्थानागार में धार्मिक महत्व रखता है। नगर योजनाबद्ध तरीके से बना था। सड़क के किनारे नालिया जो पक्की इटियों से ढ़की थी। नालियों का गंदा पानी शहर से बाहर निकलता था, नाली बनाने में पत्थर, इट्टो एवं चूनो का प्रयोग किया गया था। विश्व की सभी प्राचीन सभ्यताओं में केवल सिन्धु सभ्यता में पक्की इट्टों का प्रयोग किया गया था। कार्यक्रम का संचालन डाॅ. फूलसो पटेल द्वारा किया गया। इस अवसर पर डाॅ. नागरत्ना गनवीर, डाॅ. एलिजाबेथ भगत, प्रो, सीमा पंजवानी, प्रो. अनिल चन्द्रवंशी, तथा महाविद्यालय के छात्र/छात्राएं उपस्थित थे।

छात्रसंघ शपथ ग्रहण समारोह

शासकीय दिग्विजय स्वशासी स्नातकोत्तर महाविद्यालय राजनांदगांव का छात्रसंघ शपथ ग्रहण समारोह प्राचार्य डाॅ.(श्रीमती) बी.एन.मेश्राम के मुख्य आतिथ्य में सम्पन्न हुआ। कार्यक्रम का प्रारंभ सरस्वती वंदना एवं राज्यगीत के साथ किया गया। इस अवसर पर प्राचार्य डाॅ. मेश्राम ने अपने उद्बोधन में कहा कि महाविद्यालय में सभी को छात्रसंघ के नये पदाधिकारियों व कक्षा प्रतिनिधियों से बड़ी अपेक्षाएंॅ है। दिग्विजय महाविद्यालय में सभी छात्र प्रवेश लेना चाहते हैं, क्योंकि यहां के प्राध्यापक हमेशा छात्र-हित में कार्य करते है एवं उन्हें सही दिशा दिखाते हैं। अतः सभी पदाधिकारियों से अपेक्षा है कि वे पढ़ने-पढ़ाने के माहौल को बनाये रखें और महाविद्यालय का वातावरण कभी दूषित न होने दें व ऐसा अभिनव कार्य करें जिससे अन्य लोगों को प्रेरणा मिलें।
प्राचार्य डाॅ. मेश्राम के द्वारा छात्रसंघ अध्यक्ष- कु. प्राक्षी नायक, एम.एस.सी. अंतिम (गणित), उपाध्यक्ष- कु. आर्ची कानूनगा, एम.एस.सी.पूर्व (बायोटेक्नालाॅजी), सचिव-कु. चित्र रेखा सिन्हा, बी.एस.सी. भाग-03 (गणित) एवं सहसचिव- कु. सीमा देवांगन, बी.एस.सी. भाग-02 (बायो) तथा सभी कक्षा प्रतिनिधियों को शपथ दिलाई गई।
छात्रसंघ प्रभारी डाॅ. एच.एस. भाटिया ने कहा कि छात्रसंघ का गठन सर्वोच्च अंकों के आधार पर मनोनयन द्वारा किया गया है। सभी पदाधिकारियों को मुख्य अतिथि डाॅ. मेश्राम द्वारा प्रमाण पत्र वितरित किये गये। कार्यक्रम का कुशल संचालन डाॅ. चन्द्रकुमार जैन द्वारा किया गया एवं डाॅ. माजिद अली ने धन्यवाद ज्ञापित किया। इस अवसर पर महाविद्यालय के समस्त प्राध्यापक एवं बड़ी संख्या में छात्र-छात्राएं उपस्थित थे।

समाजकार्य विभाग के द्वारा चाइल्ड लाइन

षा. र्दििग्वजय महाविद्यालय समाजकार्य विभाग के द्वारा चाइल्ड लाइन दोस्ती सप्ताह का समापन एवं षपथ लिया गया ।
राजनांदगांव षा. दिग्विजय महा. विद्यालय समाजकार्य विभाग के द्वारा दोस्ती सप्ताह 14 से 20 नवम्बर तक मनाया गया, इसमे बच्चों के लिए संचालित राश्ट्रीय टोल फ्री सेवा चाइल्ड लाइन 1098 द्वारा काॅल कर बच्चो की समस्याओं का समाधान किया जाता है। 20 नवम्बर को षा. दिग्विजय महा. में बाल दिवस दोस्ती सप्ताह का समापन कार्यक्रम किया गया।
जिसमें षा. दिग्विजय महा. के प्राचार्या डाॅ बी. एन. मेश्राम , रजिस्टार दीपक परघनिया, समाजकार्य विभाग के प्रो. विजय मानिकपुरी , हरिष चन्द्राकर , बाल संरक्षण अधिकारी , चन्द्रकिषोंर लाडे , चाइल्ड लाइन समन्वयक विपिन ठाकूर , किषन देवांगन , सीमा द्विवेदी समेत अन्य चाइल्ड लाइन अधिकारी उपस्थित रहे।
प्रो विजय मानिकपुरी- ने यह बताया कि दोंस्ती सप्ताह मनाने के पिछे बच्चों के साथ एवं उनके अधिकार के प्रति लोगों में जागरूकता हेतु सहायता देना है। प्रो. विजय मानिकपुरी द्वारा समापन कार्यक्रम में चाइल्ड लाइन का स्वागत करते हुए इसका उद्देष्य समाज कार्यकर्ता होने के नाते छात्रों के बीच मे बताये और कहा कि जिस प्रकार परिवार में महिला षिक्षित होती है तो वह पुर परिवार को षिक्षित करती है,ठीक कार्यक्रम का उद्देष्य भी वही है। एक छात्र प्रषिक्षित होगा तो पूरा समाज के प्रति वह कार्य करेगा।
प्राचार्या डाॅ. बी. एन मेश्राम -के द्वारा सामाजिक गतिविधियों मे लोगो की जन समझदारी हेतू सामाजिक कार्यकर्ता को तैयार होना चाहिए, ताकि यह कार्य हेतु छात्र अपने आप को तैयार करना पडेगा और जन-जागरूकता हेतु जरूरी है। इसीलिए मै आप सभी को षुभकापनांए एवं बधाई देती हूँ।
विपिन ठाकुर – चाइल्ड लाइन समन्वयक ने बताया कि दोस्ती सप्ताह के दौरान विभिन्न स्कूलो , काॅलेजो, प्रधानमंत्री कौषल केन्द्र सहित षहर के पार्क मे बच्चो के साथ दोस्ती कार्यक्रम का आयोजन किया गया। इस दौरान किषोर न्याय अधिनियम व पाक्सो एक्ट सहित स्वंय की सुरक्षा के बारे मे जानकारी दिया।
इसी प्रकार से सभी प्रध्यापक एवं विद्यार्थियों के द्वारा षपथ स्वास्थ हस्ताक्षर करके षपथ लिया गया और फ्रेन्डषिप बेन्ड बांधा गया तथा बच्चो के कानूनी अधिकार से सम्बंधित जिज्ञासा को भी प्रष्नोत्तरी के माध्यम से पुर्ण किया गया ।

जिला स्तरीय क्रिकेट प्रतियोगिता उद्घाटित

शासकीय दिग्विजय महाविद्यालय के तत्वाधान में अंतर्महाविद्यालयीन जिला स्तरीय क्रिकेट प्रतियोगिता का आयोजन गुजराती महाविद्यालय के मैदान में किया जा रहा है। प्रतियोगिता का उदघाटन समारोह में मुख्य अतिथि डाॅ.बी.एन.मेश्राम प्राचार्य शासकीय दिग्विजय महाविद्यालय, श्री नावेलकर जी प्राचार्य गुजराती विद्यालय, डाॅ. शैलेन्द्र सिंह क्रीडा संयोजक, श्री मनोज तिवारी, श्री सुजीत द्विवेदी, श्री विवेक मिश्रा उपस्थित थे। प्राचार्य डाॅ.बी.एन.मेश्राम ने कहा कि हमारे देश में सबंसे ज्यादा लोकप्रिय खेल क्रिकेट है। वर्तमान में खेल को चुनकर आप अपना कैरियर बना सकत हैं। खेलो में हार जीत लगी रहती है। आप अपना उत्कृष्ट प्रदर्शन कीजिए और अपने महाविद्यालय तथा राज्य का नाम राष्ट्रीय स्तर पर रोशन करें। छत्तीसगढ़ में खेल के क्षेत्र में व्यापक संभावनाए हैं। इसका लाभ आप अवश्य उठाये। गुजराती स्कूल के प्राचार्य श्री नावेलक ने सभी खिलाड़ियों को अच्छे प्रदर्शन की शुभकानाएं दी और कहा कि वर्तमान समय में सभी खेलों में प्रतिस्पर्धा बढ़ती जा रही है, ऐसे समय में आप अपना उत्कृष्ट प्रदर्शन करें। क्रीडा संयोजक डाॅ. शैलेन्द्र सिंह ने खिलाड़ियों को संबोधित करते हुए कहा कि वर्तमान समय में क्रिकेट में अच्छे खिलाड़ी ग्रामीण इलाकों से निकलकर आ रहे हैं। खेलों में उत्कृष्ट प्रदर्शन करने के लिए मेहनत और लगन की आवश्यकता होता है। अपना श्रेष्ठ प्रदर्शन करने हेतु खेल के प्रति गंभिरता होना आवश्यक है। प्रतियोगिताओं में आप अपना प्रदर्शन कर राष्ट्रीय प्रतियोगिताओं हेतु अपना ध्यान आकर्षित कर सकते हैं। संचालन क्रीडा अधिकारी अरूण चैधरी द्वारा किया गया। प्रतियोगिता का पहला मुकाबला शासकीय शिवनाथ विज्ञान महाविद्यालय राजनांदगांव विरूद्ध शासकीय महाविद्यालय, घुमका के बीच खेला जायेगा।

दिग्विजय महाविद्यालय में कैपंस संपन्न

दिनांक 18.11.2019 को शासकीय दिग्विजय महाविद्यालय में दैनिक भास्कर गु्रप एवं जिलेट कंपनी के सहयोग से एक दिवसीय कैंपस सपंन्न हुआ। इस कार्यक्रम में विज्ञान, कला एवं वाणिज्य संकाय के लगभग 2000 छात्र छात्राएं सम्मिलित हुये। पुरे चयन की प्रक्रिया छः सेशन में संपन्न हुई। चयन परीक्षा के प्रारंभ में कंपनी के अधिकारियों के द्वारा मोटिवेशनल व्याख्यान आयोजित किये गये। इसमें कैंपस पूर्व तैयारी , सामुहिक चर्चा , व्यक्तित्व विकास एवं परीक्षा के तकनीकी पक्ष पर विशेष जोर दिया गया। चयन परीक्षा में महाविद्यालय की कु. पूजा साहू, कु. अन्जु वर्मा, चन्द्रशेखर, योगेश खरे, कु. उषा साहू, उत्कर्ष मिश्रा, तोमेश साहू, कु. सीमा सोनकर एवं टिक्कु ने सफलता हासिल की।
प्राचार्या डा. बेबी नंदा मेश्राम ने अतिथियों का स्वागत करते हुये उनका धन्यवाद ज्ञापित किया। और रोजगार एवं मार्गदर्शन प्रकोष्ठ की प्रशंसा करते हुए बताया कि प्रकोष्ठ विगत कई वर्षो से छात्र हित में इस प्रकार के आयोजन लगातार कर रहा है। प्राचार्या महोदया ने महाविद्यालय के छात्र छात्राओं को ऐसे प्रेरणास्पद व्याख्यान सुनने और इसमे सम्मिलित होने एवं कड़ी मेहनत करने की सलाह दी ताकि भविष्य में आने वाली चुनौतियो का सामना आसानी से किया जा सके इन्होने कहा कि ना जाने कौन सी प्रेरणास्पद बात हमारे जीवन में परिवर्तन ले आये।
कार्यक्रम में चयनित छात्र छात्राओ को अब राज्य व राष्टीªय स्तर पर देश की विभिन्न कंपनीयो के कैंपस में शामिल होने का अवसर प्राप्त होगा। छात्र योगेश खरे एवं कु. पूजा साहू ने रोजगार एवं मार्गदर्शन प्रकोष्ठ के द्वारा संपन्न इस कार्यक्रम की सराहना की और बताया कि प्रकोष्ठ आगे भी इस तरह के रोजगारन्मुखी कार्यक्रम आयोजित करता रहेेगा ताकि छात्र अपना भविष्य उज्जवल बनायेगें। कार्यक्रम के अंत में सम्मिलित समस्त छात्र छात्राओं को कंपनी के अधिकरियों द्वारा प्रमाण पत्र भी वितरित किये गये।
इस कार्यक्रम में प्रकोष्ठ के संयोजक डाॅ. संजय ठिसके, डाॅ. शैलेन्द्र सिंह, डाॅ. हरनाम सिंह अलरेजा, प्रो. हिरेन्द्र ठाकुर, प्रो. विकास काण्डे एवं रवि कुमार साहू ने अपना योगदान दिया।

प्राणीशास्त्र विभाग में अतिथि व्याख्याान संपन्न

प्राणीशास्त्र विभाग में दिनांक 14-11-2019 को प्रो. आर. सी. दुबे कांगड़ी वि. विद्यालय हरिद्वार के द्वारा वैदिक माइक्रोबायोलाजी पर अतिथि व्याख्याान दिया गया। जिसमे एरोबायोलाजी तथा सूक्ष्म विज्ञान के बारे में यह बताया गया हम अध्ययन वैदिक काल से ही कर रहे है। ऋग्वेद में सभी सूक्ष्म जीव का वर्णन है। इस रोचक व्याख्यान में माइक्रोबायोलाजी, बायोटेक्नालाजी, वनस्पतीशास्त्र, रसायनशास्त्र एवं प्राणीशास्त्र के विद्यार्थी उपस्थित थे। उनका व्याख्याान निश्चित तौर पर सभी विद्यार्थियों के लिए उपयोगी रहा। व्याख्याान पर आदरणीय प्राचार्य दिग्विजय कालेज, प्राणीशास्त्र प्रो. उषा ठाकूर, डा. संजय ठिसके, डा. माजिद अली, डा. सीमा त्रिपाठी एवं महाविद्यालय के अन्य प्रो. एवं छात्र छात्राएं उपस्थित थे।

दिग्विजय महाविद्यालय में कार्यशाला

शासकीय दिग्विजय महाविद्यालय में प्राचार्या डाॅ. श्रीमती बी.एन. मेश्राम के मार्गदर्शन में राजनांदगंाव जिला पंचायत ;छत्।डद्ध तथा दिग्विजय महाविद्यालय के महिला उत्पीड़न निवारण विकास समिति के सयुक्त तत्वाधान में ‘‘सेनेटरी नेपकिन हाइजिन तथा हेल्थ’’ पर जागरूकता कार्यक्रम आयोजित की गई।
कार्यक्रम में श्री उमेश कुमार तिवारी जिला कार्यक्रम प्रबंधन राजनांदगांव उपस्थित हुए उन्होंने महिला स्वसहायता समूह द्वारा उत्पादित वस्तुओं की जानकारी छात्राओं को दी।
कार्यक्रम में उपस्थित श्रीमती धनेश्वरी साहू स्वसहायता समूह अध्यक्ष ने सेनेटरी नेपकिन की उपयोगिता, आवश्यकता, निर्माण आदि पर अपना व्याख्यान प्रस्तुत किया। महाविद्यालय में स्वसहायता समूह द्वारा उत्पादित सेनेटरी नेपकिन, साबुन, अगरबत्ती आदि की प्रदर्शनी भी लगाई गई। उक्त कार्यक्रम में डाॅ. प्रीतिबाला टांक, प्रो. कविता साकुरे, रजिस्टार श्री दीपक परगनिहा तथा बड़ी संख्या में छात्राएं उपस्थित रही। कार्यक्रम का संचालन डाॅ. दीव्या देशपाण्डे तथा आभार संयोजिका डाॅ. मीना प्रसाद ने दी।

सेक्टर स्तरीय महिला वालीवाॅल प्रतियोगिता कमलादेवी विजेता डोंगरगांव उपविजेता

शासकीय दिग्विजय महाविद्यालय राजनांदगांव द्वारा सेक्टर स्तरीय महिला वालीवाॅल प्रतियोगिता का आयोजन डाॅ.(श्रीमती) बी.एन.मेश्राम, प्राचार्य के मार्गदर्शन में किया गया। प्रतियोगिता के उद्घाटन अवसर पर डाॅ. शैलेन्द्र सिंह द्वारा खिलाड़ियों का अच्छे प्रदर्शन हेतु शुभकामनाऐं प्रदान करते हुए कहा गया कि वालीवाॅल के क्षेत्र में राजनांदगांव के खिलाड़ियों ने अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर पहचान बनाई है। इस ग्राउण्ड में खेलकर रेखा पदम ने भारतीय टीम का प्रतिनिधित्व किया गया। आप सभी खेल भावना का परिचय देते हुए अपने राज्य और देश का नाम रोशन करें। इस अवसर पर अतिथि के रूप में श्री दीपक परगनिहा रजिस्ट्रार, डाॅ. प्रदीप ताम्बुलकर प्रतियोगिता पर्यवेक्षक, वरिष्ठ क्रीड़ा अधिकारी श्री पी.के. हरी, डाॅ. गीता नायर, श्री परेश वर्मा, श्री आशीष सिंह, रामु पाटिल उपस्थित थे। डाॅ. प्रदीप ताम्बुलकर, श्री दीपक परगनिहा तथा श्री आशीष सिंह द्वारा खिलाड़ियों को शुभकामनाए तथा खेल को से अवगत करया गया। कार्यक्रम का संचालन श्री अरूण चैधरी, क्रीड़ाधिकारी द्वारा किया गया।
प्रतियोगिता के पहले मुकाबला शासकीय कमलादेवी महाविद्यालय, राजनांदगांव तथा शासकीय महाविद्यालय डोंगरगांव के बीच खेला गया। जिसमें कमलादेवी महाविद्यालय ने डोंगरगांव को पराजित किया। दूसरे मुकाबले में डोंगरगांव महाविद्यालय ने दिग्विजय महाविद्यालय को पराजित किया। अंतिम मुकाबले में कमलादेवी महाविद्यालय ने दिग्विजय महाविद्यालय को पराजित कर विजेता बनने का गौरव हासिल किया। प्रतियोगिता के निर्णयाक अभिषेक रजक और अभिषेक नायडु थे।

दिग्विजय महाविद्यालय में छात्र-छात्राओं को दी गई कानूनी प्रावधानों की जानकारी

राजनांदगांव। स्थानीय, शासकीय दिग्विजय महाविद्यालय में छात्र-छात्राओं को विभिन्न कानूनी प्रावधानों की जानकारी देने के लिये व्याख्यान का आयोजन किया गया। इसमें मुख्य वक्ता के रूप में जिला न्यायालय राजनांदगांव के न्यायाधीश श्री प्रवीण मिश्रा उपस्थित थे। उन्होंने छात्र-छात्राओं को लैंगिक अपराध, पाक्सो एक्ट, बाल विवाह, घरेलू हिंसा, छेड़-छाड़ आदि से संबंधित कानूनों का विस्तार पूर्वक बड़े रोचक ढंग से जानकारी विद्यार्थियों को दी तथा अंत में छात्र-छात्राओं द्वारा पूछे गये प्रश्नों का जवाब देते हुये उन्हें निडर होकर इन प्रावधानों का अपने व समाज के हित में प्रयोग करने का आवहन किया।
इस अवसर पर महाविद्यालय के लगभग 100 छात्र-छात्राएं उपस्थि थे तथा विद्यार्थियों ने इस कार्याक्रम की सराहना करते हुये इसे काफी ज्ञानवर्धक व उपयोगी बताया। महाविद्यालय के प्राचार्या डाॅ.बी.एन.मेश्राम के मार्गदर्शन में आयोजित इस कार्यक्रम का संयोजन वाणिज्य विभागाध्यक डाॅ.एच.एस.भाटिया द्वारा किया गया।