दिग्विजय कॉलेज में मनाया गया आतंकवाद विरोधी दिवस

      राजनांदगाँव । शासकीय दिग्विजय महाविद्यालय में आतंकवाद विरोधी दिवस पर सारगर्भित व संदेशपरक कार्यक्रम आयोजित किया गया । प्राचार्य डॉ. आर.एन. सिंह ने दिवस के महत्व पर प्रकाश डालते हुए  खास तौर पर युवाओं से आह्वान किया कि किसी भी प्रकार के आतंक और हिंसा के प्रति सजग रहकर राष्ट्र निर्माण में सहभागी बनें । उन्होंने आतंकवाद विरोध की शपथ भी दिलायी । कार्यक्रम का संचालन करते हुए डॉ. चन्द्रकुमार जैन ने आतंकवाद विरोधी दिवस की रूपरेखा पर यूजीसी तथा हेमचंद यादव दुर्ग विश्वविद्यालय दुर्ग से प्राप्त निर्देशों की संक्षिप्त जानकारी दी । महाविद्यालय के छात्र राजदीप साहू ने आतंकवाद के कारणों तथा उसके निदान पर प्रभावी विचार व्यक्त किया । इस अवसर पर वरिष्ठ प्राध्यापक डॉ. चंद्रिका नाथवानी, डाॅ. अनिता महिश्वर, रजिस्ट्रार दीपक परगनिहा, आयोजन के संयोजक प्रो.सुरेश पटेल, सभी प्राध्यापक, कर्मचारी, स्वयंसेवी छात्र-छात्राओं ने जागरूक उपस्थिति दर्ज की ।

एकता जंघेल बंाग्लादेष जाएगी

शासकीय दिग्विजय महाविद्यालय की बी.काम. प्रथम वर्ष की छात्रा एकता जंघेल बांग्लादेश में अपने खेल का जौहर दिखाएगी। ढंाका में 17 से 21 मई 2019 तक आयोजित पेसापालो में एकता देश का प्रतिनिधित्व करेगी। इसके पहले दक्षिण कोरिया में बेेसबाल में देश का प्रतिनिधित्व कर चुकी है। एकता ने स्कूल स्तर पर 11 राष्ट्रीय खेलों में छत्तीसगढ़ का प्रतिनिधित्व कर चुकी है। इस वर्ष एकता ने कालीकट में आयोजित अखिल भारतीय प्रतियोगिता में दुर्ग वि.वि. का प्रतिनिधित्व किया है। चिखली राजनांदगांव निवासी एकता की उपलब्धि पर महाविद्यालय के प्राचार्य डाॅ.आर.एन. सिंह, क्रीडाअधिकारी श्री अरुण चैधरी, क्रीड़ा संयोजक डाॅ. शैलेन्द्र सिंह, रजिस्ट्रार श्री दीपक कुमार परगनिहा, श्री सुनील सिंह, श्री रामू पाटिल तथा महाविद्यालय के समस्त प्राध्यापकों ने बधाई दी।

अर्थशास्त्र विभाग द्वारा अतिथि व्याख्यान आयोजित

शासकीय दिग्विजय महाविद्यालय राजनांदगांव के अर्थशास्त्र विभाग द्वारा आयोजित अतिथि व्याख्यान में डाॅ. ज्ञान प्रकाश – विभागाध्यक्ष अर्थशास्त्र देवी अहिल्या विश्वविद्यालय इन्दौर ने पर्यावरण लागत आकलन व पर्यावरण मूल्य पर व्याख्यान दिया। अपने व्याख्यान में आपने कहा कि विकास के लिये प्राकृतिक संसाधनों का बढ़ता उपयोग पर्यावरण को क्षति पहुंचा रहा है। किसी उद्योग की लागत में पर्यावरण लागत कितनी आती है यह ज्ञात करना आवश्यक है। पर्यावरण क्षति होने पर उसका मूल्य हमें स्वास्थ्य हानि व प्रदुषण विघटन के रूप में चुकाना पड़ता है। जिसका आकलन करना आवश्यक है। इस अवसर पर महाविद्यालय के प्राचार्य डाॅ. आर.एन.सिंह ने छात्रों को संबोधित करते हुए कहा कि अपने निवास के आस-पास व अपने गांव/शहर में खाली पड़ी भूमि पर वृक्षारोपण करके आप प्रदुषण को नियंत्रित करने की पहल करें। यह पर्यावरण संरक्षण की दिशा में सही कार्य होगा। व्याख्यान में विभागाध्यक्ष डाॅ. चन्द्रिका नाथवानी, डाॅ. डी.पी. कुर्रे प्राध्यापक, डाॅ. महेश श्रीवास्तव एवं डाॅ. (श्रीमती) मीना प्रसाद सहायक प्राध्यापक ने भी अपने विचार रखे। इस अवसर पर विभाग के छात्र उपस्थित थे। छात्रों ने इस तरह के व्याख्यान को ज्ञानवद्र्वक एवं उनके अध्ययन हेतु उपयोगी बताया।

महंत राजा दिग्विजय दास की जयंती पर महाविद्यालय परिवार द्वारा कृतज्ञ स्मरण

राजनांदगांव! उच्च शिक्षा के स्वप्नदृष्टा दानवीर महंत राजा दिग्विजय दास की जयंती पर शासकीय दिग्विजय महाविद्यालय परिसर में स्थित उनकी प्रतिमा पर माल्र्यापण कर भावांजली अर्पित की गई। प्र.प्राचार्य डाॅ. चन्द्रिका नाथवानी ने महाविद्यालय की स्थापना में महंत राजा दिग्विजय दास जी के उदार योगदान को चिरस्मरणीय निरुपित किया।
उक्त अवसर पर महाविद्यालय के प्राध्यापक, रजिस्ट्रार, अधिकारी, कर्मचारी एवं विद्यार्थी उपस्थित रहे। सभी ने राजा साहब को पुष्पांजलि अर्पित की।

’’ग्राम कुम्हालोरी में अंधविष्वास तथा योग पर कार्यक्रम‘‘

शासकीय दिग्विजय महाविद्यालय के दर्षन एवं योग विभाग द्वारा ग्राम कुम्हालोरी पोस्ट सुरगी में अंधविष्वास तथा योग पर एक सामाजिक जागरूकता काकार्यक्रम आयोजित किया गया।सर्वप्रथम दर्षन एवं योग के विद्यार्थियों नंे पूरे ग्राम का भ्रमण कर अंधविष्वास क्या है तथा योग क्या है विषय पर पामप्लेट का वितरण किया।तत्पष्चात् सभी ग्रामवासियों को प्रो. नीरा सिंह ने योग का महत्व बतलाते हुए अनेक सरल आसन करवाये तथा बतलाया कि अपने जीवन में यदि हम 10 मिनट योग के लिए निकाल पाये तो अनेक असाध्य बिमारियों से बच सकते है। योग के विद्यार्थियों ने ग्रामवासियों के समक्ष अनेक ऐसे कठिन आसनों का प्रदर्षन किया जो विभिन्न बिमारियों के निदान हेतु उपयोगी थे। इस अवसर पर विभागाध्यक्ष डाॅ. एच. एस. अलरेजा ने कहा कि भारत का  विकास तभी संभव है जब भारत के गांवों का विकास हो विकास का अर्थ बड़े-बड़े मालगाड़ियां बंगले नही है।विकासकाअर्थहै स्वस्थ्य शरीर तथा उस में स्थित स्वस्थ्य वैज्ञानिक बुद्धि गांव ही नही शहर के पढ़े लिखे लोग भी यह अंधविष्वास मानते हैं कि किसी अंगूठी या धागे के बांधने से हमारी जिंदगी बदल जायेगी अब हमे टोने टोट के सिंदुर निबू, मिर्ची, ताबिजअंगूठीजैसेअंधविष्वासों से उपर उठना है।अंधविष्वास से मुक्त मस्तिस्क तथा योगयुक्त जीवन ही आधुनिक मनुष्य की पहचानहै।
इस कार्यक्रम का कुषल संचालन ग्राम के युवा श्रीविजय कुमार ने किया इस अवसर पर सरपंच सामतराम पटेल, उपसरपंच राजंेषसाहू, पंच राजेष्वर कोटारे शाला अध्यक्ष ओंकारदास साहेब षिक्षक आर. आर. साहू तथा अनेक ग्राम वासी उपस्थित थे।कार्यक्रम में ग्राम वासी डिपेन्द्र कुमार वरूण कुमार जीतेष साहू, हेमंत साहू संतोष गोसांई, पूनम देविका अंगेष्वरी साहू ने सहयोग प्रदान किया

कम्प्यूटर साइंस विभाग में क्लाउड कंप्यूटिंग विषय पर अतिथि व्याख्यान

शासकीय दिग्विजय महाविद्यालय के कम्प्यूटर साइंस विभाग में दिनांक 20 अप्रैल 2019 को अतिथि व्याख्यान का आयोजन किया गया । मुख्य अतिथि के रूप में भिलाई इंस्टिट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी , दुर्ग के कंप्यूटर साइंस विभाग के असिस्टेन्ट प्रोफेसर श्री सुदीप भट्टाचार्य उपस्थित थे । उन्होंने “  क्लाउड कंप्यूटिंग ”  विषय पर अतिथि व्याख्यान दिया । अपने व्याख्यान में उन्होंने वर्तमान में उपयोग हो रहे कंप्यूटर प्रोग्रामिंग तकनीक को बताते हुए क्लाउड कंप्यूटिंग , सर्विस मॉडल , ट्रेडिशनल कंप्यूटिंग तथा क्लाउड कंप्यूटिंग में अंतर को बताया । उन्होंने क्लाउड कंप्यूटिंग के सर्विस मॉडल के बारे में विस्तारपूर्वक तथा उदहारण देकर  इसकी कार्य प्रणाली को समझाया । उपस्थित छात्रछात्राएं ने इस अतिथि व्याख्यान की प्रशंसा की । इस अतिथि व्याख्यान में कंप्यूटर साइंस विभाग के प्रमुख असिस्टेन्ट प्रोफेसर राजू खूंटे , अतिथि व्याख्याता मिथिलेश देवांगन, श्रीमती मेघा गुप्ता, आशीष मांडले तथा एम.एस.सी. (कंप्यूटर साइंस ) – पूर्व एवं  अंतिम  के छात्रछात्राएं उपस्थित थे ।

अर्थशास्त्र विभाग के छात्र/छात्राओं द्वारा विस्तार गतिविधि कार्यक्रम

शासकीय दिग्विजय स्वशासी स्नातकोत्तर महाविद्यालय राजनांदगांव के अर्थशास्त्र विभाग के छात्र/छात्राओं द्वारा शासकीय उच्चतर माध्यमिक शाला तिलई में विस्तार गतिविधि कार्यक्रम का आयोजन किया गया। इस शैक्षणिक गतिविधि के अंतर्गत शाला की 11 एवं 12 के छात्र/छात्राओं को एम.ए. के छात्र/छात्राओं द्वारा अर्थशास्त्र अध्ययन का महत्व एवं आगे महाविद्यालय की शिक्षा में अर्थशास्त्र लेने प्रेरित उद्बोधन दिया गया। इसके साथ ही स्वास्थ्य, पर्यावरण एवं विकास पर प्रेरक जानकारी दी गई। इस अवसर पर विभागाध्यक्ष डाॅ. चन्द्रिका नाथवानी ने कहा कि पर्यावरण असंतुलन से स्वास्थ्य समस्याएं उत्पन्न होती है जो व्यक्ति की कार्यक्षमता पर प्रभाव डालती है। विभाग के डाॅ. महेश श्रीवास्तव ने कहा कि विकास एवं पर्यावरण एक दूसरे के पूरक है किन्तु विकास के साथ पर्यावरण को क्षति से बचाना आवश्यक है। डाॅ. श्रीमती मीना प्रसाद ने अर्थशास्त्र केरियर के चुनाव में किस प्रकार उपयोगी है, इस ंसंबंध में जानकारी दी। शाला के प्राचार्य ने इस तरह के कार्यक्रम को शाला के छात्र/छात्राओं हेतु उपयोगी एवं समयानुकूल बताया। महाविद्यालय एवं शाला के छात्र/छात्राओं के शाला परिसर की सफाई की साथ ही रैली निकालकर ग्रामवासियों को स्वच्छता व स्थास्थ्य के संबंध में संदेश दिया।

अर्थशास्त्र विभाग द्वारा अतिथि व्याख्यान

शासकीय दिग्विजय स्वशासी स्नातकोत्तर महाविद्यालय राजनांदगांव के अर्थशास्त्र विभाग द्वारा अतिथि व्याख्यान का आयोजन किया गया। मुख्य वक्ता के रूप में श्री ए.के.वैद्य मैनेजर, जिला रोजगार केन्द्र राजनांदगांव द्वारा छात्रों को रोजगार के संबंध में उद्बोधन दिया। आपने कहा कि आज समय की मांग है कि छात्रगण अपनी शिक्षा पूर्ण करने के बाद स्वयं के रोजगार की दिशा में आगे बढ़ सकते है। वे किसी कार्य विशेष का प्रशिक्षण लेकर यदि अपना व्यवसाय प्रारंभ करना चाहते है तो इसके लिये बैंक से ऋण प्राप्त किया जा सकता है। छात्रों को इस संबंध में आवश्यकतानुसार प्रशिक्षण के संबंध में जानकारी देने के लिये सहयोग देने की बात कहीं।
इस अवसर पर महाविद्यालय के प्राचार्य डाॅ. आर.एन. सिंह ने छात्रों को संबोधित करते हुए कहा कि वे स्वयं का रोजगार प्राप्त करने कौशल प्रशिक्षण लेवें जो उन्हें स्वयं के साथ दूसरों को भी रोजगार देने में सहयोगी होगा। इस अवसर पर विभागाध्यक्ष डाॅ. चन्द्रिका नाथवानी, विभाग के प्राध्यापक डाॅ. डी.पी.कुर्रे एवं सहायक प्राध्यापक डाॅ. महेश श्रीवास्तव, डाॅ. श्रीमती मीना प्रसाद एवं एम.ए. छात्र/छात्राएं बड़ी संख्या में उपस्थित थे।

VISIT TO ABIS FACTORY

  • The batch of M.Sc.-II and M.Sc.-IV students of microbiology and staff visited the IB Group at Indamara, Rajnandgaon.The unit is mainly focusing on preparation of feed products, edible oil and soya bean meal along with poultry and dairy.The teachers of department supported fully so that students can interact easily with the ongoing production method.
  • IB Group has diversified itself into a well- integrated business unit that produces poultry, dairy, oil, animal feed and specialized pet food which directly and indirectly linked with microbiology.
  • The guide of IB Group addressed the students and introduced about industry. The high quality feed with remarkable longevity. To maintain quality pellets, they increased their level of conditioning system to ensure best starch gelatinisation process. These straight process ensure that the Salmonella kill rate is significantly reduced, safeguarding the health of livestock.
  • They produce feeds for poultry and extruded feed for fisheries under pre-starter, starter and finisher categories.
  • They showed very large instrumentation tanks with the help of which they prepare particular atmosphere so that the product made by them is
  • For soya bean meal and edible oil they use solvent extraction plant for highly mechanised soya products, which produce soya DOC with 50-52% protein content with controlled fibre free from oil residue, ash, sand and
  • In their refinery house, they produce high quality edible soya and vegetable oil with a unique blend of omega fatty
  • They are in the midst of launching palm oil and rice bran oil. They balanced the oil contents like fatty acids like MUFA and PUFA to maintain healthy

 

VISIT TO GOVT. SCHOOL

  • The students of M.Sc. Microbiology visited Govt. Gajanand Madhav Muktibodh Higher Secondary School , Shankarpur , Rajnandgaon for extension activity.Whole department of microbiology along with the faculty members layed the path for completing extension activity.Due to this activity, members of department especially the students got a golden opportunity to interact with the students of
  • Firstly, the students were given knowledge of microbiology along with different microbes with especial focus on bacteria and viruses and the disease caused by them.The unit was assembled there to have their attention on antibiotics and its effects and side
  • Antibiotics are the wonder drug, which are used by each and every being now a day. So it is very important for all to know about antibiotics, its usefulness well as its side
  • The unit had made some big banners with suitable and effective sum of knowledge and pictures along with.The unit one by one interact with the students and make them aware of the antibiotics, how it was discovered and by whom.Further, the working of antibiotics and their mechanism were explained. How the antibiotics are effective to us, and the unit focused in the side effects of antibiotics
  • The students of school and all the faculty member co-operated with us and the interaction goes in very apt way.After the lecture, a questioning session was also organised with the students so that they could make all their doubts clear. The unit was thankful to the school for helping them to complete their extension